शुक्रवार, 16 जनवरी 2009

याद





तुमने कहा था
याद मुझे करना
बस गए हो जब तुम
अंग - अंग में
याद करने के लिए
पहले भूलना होगा तुम्हें

3 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर ओर गहरी बात आओ ने चार लाईनो मे कह दी.सुंदर चित्रो के संग.
धन्यवाद

हिमांशु ने कहा…

बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना. धन्यवाद.

Ram Krishna Gautam ने कहा…

Bahut khoob Didi... Carry on!