सोमवार, 9 मार्च 2009

महिला दिवस कुछ सवाल





कल महिला दिवस था । इक्कीसवी सदी की नारी का जिक्र आते ही हमारे मन में एक सुपर पावर वुमेन की तस्वीर उभरती है। जो हर क्षेत्र में सफलता का परचम लहरा रही है। यह सही है स्त्री ने घर की चहारदीवारी से बाहर निकल कर अनंत आकाश तक का सफर तय कर लिया है। किरण बेदी, कल्पना चावला, सानिया मिर्जा से प्रतिभा पाटिल तक के उदाहरण समाज को देखने को मिले, पर क्या ये काफी हैं? महिलाएं समाज का आधा हिस्सा हैं और उनके लिए केवल एक दिन ? बाकी के दिन किसके हैं। महिला दिवस पर एक दिन महिलाओं का है, बोलकर कई सारे आयोजन कर, शासन- प्रशासन और सामाजिक कार्यकर्ता की कुर्सी पर बैठे लोग अपने कर्तव्यों की इतिश्री मान लेते हैं। उनकी नजर में महिलाओं के पास भी पुरुषों के समान अधिकार तथा दायित्व हैं। आज महिलाओं के लिए समाज में मान-सम्मान के साथ ही कानून और सुरक्षा के आयाम बढ़े हैं।
आज की नारी के लिए बस इतना ही-
कर पदयात अब मिथ्या के मस्तक पर
सत्यांवेश के पथ पर निकलो नारी
तुम बहुत दिनों तक बनी रही दीप कुटिया का
अब बनो क्रांति के ज्वाला की चिंगारी।
कैसे हुई महिला दिवस की शुरूआत
आज से एक सौ एक साल पहले 1908 में न्यूयॉर्क में महिलाओं ने अपने हक के लिए आवाज उठाई थी। वोट डालने के अधिकार, समान वेतन और काम के घण्टे कम करने के लिए 15000 महिलाओं ने न्यूयॉर्क की सड़कों पर आन्दोलन किया था। इस लड़ाई में बहुत सी महिलाए· आहत हुई थीं। बाद में पुरुष वर्चस्व को विवश होकर महिलाओं को उनका अधिकार देना पड़ा।तीन साल के बाद 1911 में आठ मार्च का यह दिन जर्मनी में महिला दिवस के रूप में मनाया गया। बाद में इस दिन को महिला दिवस के रूप में मान्यता मिल गई। पूरे संसार में 8 मार्च का दिन महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में 1952 से इसे मनाया जा रहा है।

पहल जरुरी
पिछले दशकों में स्त्रियों का उत्पीड़न रोकने और उन्हें उनके हक दिलाने के बारे में बड़ी संख्या में कानून पारित हुए हैं। अगर इतने कानूनों का सचमुच पालन होता तो भारत में स्त्रियों के साथ भेदभाव और अत्याचार अब का खत्म हो जाना था। लेकिन पुरूष प्रधान मानसिकता के चलते यह संभव नहीं हो सका है। हमे कोशिश करनी चाहिए की इस दिशा में कुछ हो।

9 टिप्‍पणियां:

अंशुमाली ने कहा…

महिला दिवस से इतर भी स्त्री होती है आखिर वो हमें दिखाई क्यों नहीं देती?

विनय ने कहा…

रंगों के त्योहार होली पर आपको एवं आपके समस्त परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ

---
चाँद, बादल और शाम
गुलाबी कोंपलें

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अच्छी पोस्ट,
स्त्रीयों को उनका हक सचमुच मिलना चाहिए
आपको और आपके परिवार को होली मुबारक हो

राज भाटिय़ा ने कहा…

आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

समीर सृज़न ने कहा…

"कर पद यात्रा अब मिथ्या के मस्तक पर
सत्यांवेश के पथ पर निकलो नारी..
तुम बहुत दिनों तक बनी रही दीप कुटिया का..
अब बनो क्रांति के ज्वाला की चिंगारी.."
महिलाओ के बारे आप की चिंता जायज़ है...हमें इस ओर जरूर ध्यान देना चाहिए..
बधाई..

Dileepraaj Nagpal ने कहा…

Mahila Diwas Ke Baare M Jaankari Thi per Itni jyada Nahi...Badhayi

BrijmohanShrivastava ने कहा…

ये पुरुष प्रधान ,पुरुष प्रधान शब्द बार बार प्रयोग कर महिलाओं के मन में क्यों ईर्षा भावः भरा जा रहा है -रहा होगा कभी पुरुष प्रधान समाज /कुछ अपवादों को छोड़ कर ,आज कौन कह सकता है कि पुरुष प्रधान समाज है

Santhosh ने कहा…

hi......ur blog is full of good stuffs.it is a pleasure to go through ur blog...

by the way, which typing tool are u using for typing in Hindi...? recently i was searching for the user friendly Indian language typing tool and found ... " quillpad " do u use the same...?

heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration...!?

expressing our views in our own mother tongue is a great feeling...save, protect,popularize and communicate in our own mother tongue...

try this, www.quillpad.in

Jai..HO....

hem pandey ने कहा…

'पुरुष प्रधान मानसिकता के चलते यह संभव नहीं हो सका है। हमे कोशिश करनी चाहिए की इस दिशा में कुछ हो।'
-कम से कम शहरों में इस दिशा में पहल हो चुकी है. आज एक बड़ी संख्या उन माँ बाप की है जो लड़का - लड़की में भेद नहीं करते. पुरुषों की एक बड़ी संख्या है जो घर के कामों में पत्नी का पूरा सहयोग करते है.